Wednesday, January 26, 2011

केदारनाथ सिंह की कविता

 
  केदारनाथ सिंह  की कविता 

सब चेहरों पर सन्नाटा 
हर दिल में गड़ता कांटा
हर घर में गीला आटा
यह क्यों होता है...?

जीने की जो कोशिश है 
जीने में यह जो विष है 
सांसों में भरी कशिश है 
इसका क्या करिए...?

कुछ लोग खेत बोते हें
कुछ चट्टानें ढोते हें 
कुछ लोग सिर्फ होते हें
इसका क्या मतलब है...?

मेरा पथराया कंधा
जो है सदियों से अंधा 
जो खोज चुका हर धंधा
क्यों चुप रहता है...?

यह अग्निकिरीटी मस्तक 
जो है मेरे कन्धों पर
यह ज़िंदा भारी पत्थर 
इसका क्या होगा...?


3 comments:

शरद कोकास said...

कुछ लोग खेत बोते हें
कुछ चट्टानें ढोते हें
कुछ लोग सिर्फ होते हें
इसका क्या मतलब है...

केदार जी की यह बहुत महत्वपूर्ण पंक्तियाँ हैं जिनमें केदारजी अपनी सीमाओं का उल्लंघन करते हैं और कविता की भाषा में लोक का एक नया आयाम स्थापित करते हैं ।

some unspoken words said...

aaj yunhi jab exam dene jaa rahi thi,tab kai vichar man me aaye gaye.ekaek road k kinare ek aadmi dikha jo bahri duniya se bekhabar hokar lghushanka karne me vyast tha.socha nadan hai par vo akela nahi tha uske ek nahi do nahi pure saat log road ko ganda karne me lage hue the.examination hall me pahuchi thi to ek ladka paper hal karne se jyada apni need puri karne me ruchi dikha raha tha.mushkil se 10 minute paper solve kiya hoga or gharraate maar kar sone laga.hum sabhi log usko hairat bhari nigaahon se dekh rahe the. vahi dusri or maine dekha ek bahut budha insaan jo ki golgappe ka thela lagakar khada tha.par ek bhi grahak na tha.shayad ab hum itne morden ho gaye hai ki us bude aadmi k golgappe se jyada fastfood khana pasand karenge...kedarnaath ki ye panktiya kuch aise hi tathyon par seedhe pashn karti hai.

Schizophrenic said...

Ek chhezz hai jisse main aapko nawazna chahti hu,

Do visit my blog for futhur details. There is an award waiting for you.

1 SAAL se uppar ho gaya hai aapke blog ko follow karte hue, par aaj bhi yeh utna hi dilchasp hai jitna 2 saal pehle hua karta :)

Sneha

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

FEEDJIT Live Traffic Feed

FEEDJIT Live Traffic Map