Sunday, April 26, 2009

वोट फॉर घिनऊलाल.........


3 comments:

अविनाश वाचस्पति said...

जीतने के बाद तो

इन्‍होंने मुख वैसे ही

नहीं दिखलाना है

नेतागिरी का यही

अफसाना है।

परमजीत बाली said...

यह तो मतदाताओ की मजबूरी है..अब वोट तो देना ही है.....

काजल कुमार Kajal Kumar said...

ये कुम्भनदास भी लाजवाब है.

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

FEEDJIT Live Traffic Feed

FEEDJIT Live Traffic Map